चाँद हो या हो तुम चाँदनी ,बता दो न।

https://goo.gl/images/Dfrpd5


चाँद हो या हो तुम चाँदनी ,बता दो न ,
अपनी मोहब्बत की रोशनी में नहला दो न !

मुद्दतों की मिन्नतों बाद मिले हो ,
कुछ तो सिला इंतजार का मेरे भी दे दो न !

सँवर जाये यह रुकी -रुकी सी जिन्दगी ,
अपनी साँसो की रफतार दे दो न !

मुक्म्मल कर दूँ ,हर खुशी तुम्हारी ,
भूल से ही सही ,हार बाहों का दे दो न !

सर्द सी हैं हसरते-जिन्दगी की ,
मुस्कराहटो की धूप दे दो न !



By - राशि सिंह 


Comments