2 गिनीज़ में मेंबरशिप साथ में दो महिलाओं की एंट्री फ्री, जानिए सिडनी क्रिकेट ग्राउंड के बारे में।

Score board pleasure.com

सिडनी क्रिकेट ग्राउंड वैसे तो 1811 में ही वजूद में आ गया था जब बिट्रिश सेना के मेजर जनरल लेचलन मैक्वेरी ने दूसरे सिडनी कॉमन की स्थापना की। 1850 तक सिडनी क्रिकेट ग्राउंड का कोई खास महत्व नहीं था। इस जगह पर कचरे का ढेर लगा रहता था। साल 1851 तक विक्टोरिया बैराक का हिस्सा रहे इस मैदान के दक्षिणी हिस्से में सैनिकों को क्रिकेट खेलने की स्वीकृति दे दी गई। 

अगले 2 वर्षों में विक्टोरिया बैराक की टीम ने अपने आप को स्थापित करते हुए एक स्थाई संगठन बना लिया जिसे गैरीसन क्लब कहा जाने लगा। 1854 में इस मैदान को पहली बार खोला गया तब इसे गैरीसन ग्राउंड के नाम से जाना गया। उस समय खेलने और रेस करने के लिए हाइड पार्क मुख्य मैदान था।

1860 में गैरीसन ग्राउंड के पश्चिमी भाग जिसे डॉलिंग स्ट्रीट कहा जाता था इसे बाद में आम जनता के मनोरंजन के लिए खोल दिया गया। डॉलिंग स्ट्रीट का नाम बदलकर सिडनी के मेयर चार्ल्स मूर के नाम पर मूर पार्क रखा गया। 

बदलते रहे नाम

सिडनी गार्डन के कमांडर लेफ्टिनेंट कर्नल जॉन रिचर्ड्सन ने ईस्ट सिडनी क्रिकेट क्लब के साथ गठबंधन किया। तब गैरीसन ग्राउंड का नाम बदलकर सिविल एंड मिलिट्री ग्राउंड हो गया। 

1870 में बिट्रिश फौज के जाने के बाद इस मैदान के कई कर्ता-धर्ता रहे। 1875 में गैरीसन ग्राउंड का नाम एक बार फिर बदला गया। अबकी बार इस मैदान को नाम दिया गया न्यूसाउथ वेल्स क्रिकेट एसोसिएशन। वहीं 1877 में एक बार फिर इस मैदान का नाम चेंज किया गया और अबकी इसे नया नाम दिया गया एसोसिएशन ग्राउंड।

25 अक्टूबर 1877 को इस नए मैदान पर पहली बार मैच खेला गया। ये मैच सिविल सर्विस चैलेंज कप के तहत गर्वमेंट प्रिंटिंग ऑफिस और ऑडिट ऑफिस के लोगों के बीच खेला गया। इन्हीं खिलाड़ियों में एलिक बेनरमैन और डेव ग्रेगोरी जैसे दिग्गज खिलाड़ी भी शामिल थे जो बाद में बहुत प्रसिद्ध हुए।

27 जनवरी1883

मेंबरशिप का दौर

उन दिनों एसोसिएशन ग्राउंड पर मेंबरशिप का चलन था। उस दौरान ज्यादातर लोग एसोसिएशन ग्राउंड की सदस्यता ग्रहण कर लेते थे। जिसके बाद उन्हें बार-बार के तामझाम से आजादी मिल जाती थी। एसोसिएशन ग्राउंड का सदस्य बनने के लिए हर कोई उत्सुक रहता था। सदस्य बनने के लिए 2 गिनीज़ का मूल्य निर्धारित किया गया था।  

सदस्य बनने के बाद फिर 

जो व्यक्ति एसोसिएशन ग्राउंड का सदस्य बन जाता उसे दो महिलाओं को अपने साथ मैदान पर ले जाने की छूट थी। इन महिलाओं का कोई एक्सट्रॉ चार्ज नहीं लिया जाता था। इस छूट का फायदा सदस्यों ने खूब उठाया। एसोसिएशन ग्राउंड पर वैसे भी काफी भीड़ होती थी। जिनमें महिलाएं खासी संख्या में मौजूद रहती थीं। ये सब उसी छूट का कमाल था।

हुआ शोषण

एक मेंबर के साथ दो महिलाओं की एंट्री फ्री होने के चलते लोग अपने साथ महिलाओं को लेकर मैदान पर पहुंचते थे। मौके का फायदा उठाकर इन सदस्यों  में से सैकड़ों ने बहती गंगा में हाथ धोने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। 

कुछ समय बाद एसोसिएशन ग्राउंड पर महिलाओं के शोषण का मुद्दा जोर शोर से उठाया गया। महिलाओं के मुताबकि, एसोसिएशन ग्राउंड पर महिलाओं का शोषण किया जाता है। मीडिया ने शोषण के इस मुद्दे को तूल दिया जिसके बाद लगाम कसी गई।

पहला ऑफिशियल मैच

एसोसिएशन मैदान पर पहला उद्घाटन मुक़ाबला फरवरी 1878 में विक्टोरिया और न्यू साउथ वेल्स के बीच हुआ था। दर्शकों के लिए 1 शिलिंग (ऑस्ट्रेलियन मुद्रा) की फीस निर्धारित थी। यदि दर्शक ग्रैंड स्टैंड और लॉन में बैठना चाहते हैं तो उसके लिए उन्हें अतिरिक्त 1 शिलिंग और देना पड़ता था। 

जमकर हुआ विरोध

एसोसिएशन ग्राउंड पर उद्घाटन मैच में ही विरोध हुआ। मैच का विरोध करने के लिए पहले से ही पोस्टर्स और हैंडबिल्स बांटे गए थे। जिसके चलते लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया। इतना विरोध होने के बाद भी ये पता नहीं चला कि इस काम को अंजाम किसने दिया? शक की सुई अल्बर्ट क्रिकेट ग्राउंड कंपनी पर गई। लोगों का मानना था कि अल्बर्ट क्रिकेट कंपनी को नुकसान हो रहा है। 

1936

दी गई चेतावनी

एसोसिएशन ग्राउंड पर मैच मुकम्मल हो जिसके एक दिन पहले सिडनी न्यूज़ पेपर में चेतावनी प्रकाशित कराई गई। जिसमे कहा गया कि अगर कोई व्यक्ति धमकी देता है, उपद्रव करता है ऐसे शख्स को मैदान पर कतई  प्रवेश नहीं दिया जायेगा। 

फिर बदला नाम

1878 तक एसोसिएशन ग्राउंड पर ब्रिवांगल स्टैंड था जिसे गैंड स्टैंड भी कहा जाता था। 1890 में इस मैदान पर बड़े बदलाव हुए। 1894 में इस मैदान का नाम बदलकर सिडनी क्रिकेट ग्राउंड रखा गया। तब से लेकर आज तक इस मैदान का नाम सिडनी क्रिकेट ग्राउंड है।

सिडनी ग्राउंड का साइकिल ट्रैक

सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर साइकिल ट्रैक था। मैदान पर सभी जगह निर्णाण किया गया लेकिन साइकिल ट्रैक का खास ध्यान रखा गया था। किसी भी निर्माण के दौरान इस ट्रैक को नहीं हटाया गया। 

किसने बनाया था साइकिल ट्रैक?

इस ट्रैक का निर्माण जिस कारपेंटर ने किया था उसका नाम जॉर्ज ब्रेडमैन। ये जॉर्ज ब्रेडमैन मशहूर क्रिकेट डॉन ब्रेडमैन के पिता थे। बाद में 1921 में इस साइकिल ट्रैक को हटा दिया गया था। कई क्रिकेटर्स का कहना था कि साइकिल ट्रैक होने से क्रिकेट मैदान के रूप में एससीजी की छवि धूमिल होती है।  

हमेशा भीड़ रही है एससीजी पर

सिडनी क्रिकेट ग्राउंड शुरुआती दिनों से ही भीड़ का केंद्र रहा है। इस मैदान ने सिडनी के दर्शकों का मनोरंजन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यहां पर दर्शक बड़ी संख्या में मैच का लुत्फ उठाने आते हैं। 

दंगा-फसाद भी इस मैदान पर पहले से होते रहे हैं। एक ऐसा ही दंगा 1879 में हुआ था। उन दिनों इंग्लैंड की टीम दौरे पर थी। 1879 में जब इंग्लिश टीम न्यूसाउथ वेल्स के खिलाफ मैच खेल रही थी तो कई बार मैच के दौरान दर्शकों के झुंड के झुंड मैदान में दाखिल हुए थे। जिसके चलते मैच को जारी रख पाना अंपायर्स के लिए मुश्किल हो गया था। दर्शकों के उपद्रव से आजिज आकर अंपायर्स ऩे उस दिन का खेल रद्द कर दिया था। 

इसी विवादित मैच में एक अंपायर थे जिनका नाम एडमाउंड बारटॉन था। यही एडमाउंट बारटॉन बाद में ऑस्ट्रेलिया के पहले प्रधानमंत्री बने थे। प्रधानमंत्री के तौर पर एडमाउंड बारटॉन का कार्यकाल 1 जनवरी 1901 से लेकर 24 सिंतबर 1903 तक रहा। जो सर एडमाउंड बारटॉन के नाम से मकबूल हुए।

एससीजी पर पहला अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट

सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर पहला अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट 17 फरवरी 1882 को इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया। इस टेस्ट मैच को ऑस्ट्रेलिया ने 5 विकेट जीता था। बताते चलें एससीजी पर खेला गया ये टेस्ट मैच उस समय विश्व का मात्र 6ठवां टेस्ट मैच था। इससे पहले 5 टेस्ट मैच खेले गए थे जिनमें से 4 मेलबोर्न में और 1 टेस्ट इंग्लैंड के द ओवर में खेला गया था।

1930

एससीजी पर पहला वनडे कब हुआ?

सिडनी क्रिकेट ग्राउंड को अंतर्राष्ट्रीय वनडे मैच के लिए लंबा इंतज़ार करना पड़ा था। 13 जनवरी 1979 को एससीजी पर पहला वनडे मैच खेला गया। ये मुक़ाबला ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड की टीमों के बीच हुआ था। इंग्लैंड ने पहले टॉस जीतकर फील्डिंग की। कंगारू टीम का पहला विकट  ग्रीम वुड के रूप में 17 रनों पर आउट हो गया था। टीम के दूसरे ओपनर 6 रनों पर नाबाद थे। लेकिन ये मैच पूरा नहीं खेला जा सका। इस मैच का अंतिम स्कोर 17/1 विकट ही रहा था।

स्मरण रहे

इस वनडे से पहले कैरी पैकर की वर्ल्ड सीरीज़ क्रिकेट के दौरान सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर 28 नवंबर 1978 को एक वनडे मैच खेला गया था। ये वनडे मैच एकदिवसीय क्रिकेट के इतिहास का पहला डे/नाइट मैच था। आईसीसी और ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट बोर्ड सहित कई  देशों ने कैरी पैकर की वर्ल्ड सीरीज़ क्रिकेट की तीखी आलोचना की थी आईसीसी ने फरमान जारी कर कहा था कि कैरी पैकर की वर्ल्ड सीरीज़ क्रिकेट के किसी भी मैच (जिसमें टेस्ट और वनडे दोनों शामिल थे) को मान्यता नहीं दी जाएगी और न ही इन मैचेस को रेकॉर्ड्स बुक में दर्ज किया जाएगा।

तो एससीजी पर टी-20 कब हुआ?

9 जनवरी 2007 को इस मैदान पर पहला टी-20 मैच ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड की टीमों ने खेला। इस मैदान पर खेले गए पहले टी-20 मैच को कंगारू टीम ने 77 रनों से जीता था। 




By - ओमप्रकाश



   
नोट- ये जो तस्वीरें आप देख रहे हैं ये सिडनी क्रिकेट गाउंड की हैं। पहली पिक 27 जनवरी 1883 की है इसके फोटोग्राफर का नाम नहीं पता है। दूसरी तस्वीर 1936 की है जिसे फोटोग्राफर सैमहुड ने अपने कैमरे में कैद किया। तीसरी और अंतिम तस्वीर 1930 की है इस तस्वीर को भी सैमहुड ने ही क्लिक किया था।

Comments