अंतरिक्ष से "सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा " कहने वाले पहले भारतीय राकेश शर्मा।


Akhand bhart news.com


करोड़ो भारतीयों के लिए वो गर्व का पल था जब भारतीय एस्ट्रोनॉट राकेश शर्मा ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी के सवाल पर,”कि अंतरिक्ष से भारत कैसा दिखता है?” कहा था,”सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा


भारत के पहले अन्तरिक्ष यात्री राकेश शर्मा के जन्मदिन पर जानिए उनके बारे में ,

•  राकेश शर्मा का जन्म 1949 में पटियाला स्थित पंजाबी परिवार में हुआ था।

• आपने 1966 में एयर फोर्स कैडेट के तौर पर NDA में शामिल हुए।

• 1971 में पहला Russian Jet, Mikoyan-Gurevich उड़ाया।

• 12 सितम्बर 1982 को सोवियत इंटरकॉसमॉस स्पेस प्रोग्राम और इसरो (इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाईजेशन) की तरफ से वे अंतरिक्ष जाने वाले समूह के सदस्य बने।

• इसी साल सोवियत संघ के इंटरकॉसमॉस कार्यक्रम’ के तहत राकेश शर्मा का चयन हुआ। उस समय वे भारतीय एयर फोर्स में स्क्वाड्रन लीडर और विमान चालक के पद पर कार्यरत थे।

• 1987 में वे हिन्दुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड में ज्वाइन हुए और 1992 तक HAL नाशिक डिवीज़न में चीफ टेस्ट पायलट के पद पर रहते हुए सेवा की।

• 3 अप्रैल 1984 को भारतीय समय अनुसार 6 बजकर 37 मिनट पर आपनर सोयूज टी-11 से अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरी और अंतरिक्ष में करीब 8 दिन बिताने के बाद धरती पर वापस लौटे।

• आपने के एक्सपेरिमेंट सेशन भी किये। जिसमे ज्यादातर कार्य ‘Bio-Medicine और Remote Sensing’ के क्षेत्र में ही रहा है।

बाद में उन्हें हीरो ऑफ़ सोवियत संघ’ के पद से सम्मानित किया गया। साथ ही भारत सरकार ने भी उन्हें शांति काल के सर्वोच्च सम्मान अशोक चक्र’ से सम्मानित किया था।

ध्याद देनेवाली बात है कि अगर ये महान उपलब्धि न होती तो 1984 का साल भारत के सीने पर एक गहरे घाव की तरह है। इसी साल पंजाब स्थित मशहूर स्वर्ण मंदिर’ में सिख अलगाववादियों के ख़िलाफ़ सेना की कार्रवाई और इसके बाद सिख अंगरक्षकों के द्वारा प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी’ की हत्या कर दी गई थी। इसी साल भोपाल गैस त्रासदी का दंश भी भारत को घायल कर गया था।

इस सब के बावजूद राकेश शर्मा के माध्यम से भारत ने अंतरिक्ष मे अपनी मैजूदगी स्थापित कराई। राकेश शर्मा ही पहले व्यक्ति थे जिन्होंने जीरो ग्रेविटी के असर से बचने के लिए अंतरिक्ष में योग का अभ्यास किया। इसी के साथ भारत अंतरिक्ष में कदम रखने वाला चौदहवाँ देश बन गया।

देश आपको हमेशा याद रखेगा और उम्मीद रखेगा हम भी कभी पूर्णतः ऐसा ही स्वदेशी अंतरिक्ष कार्यक्रम कर सकें। हम तेज़ी से इस लक्ष्य की ओर बढ़ रहे हैं,पर मंज़िल अब भी काफी दूर है। आज का ये दिन भारत के इस अनमोल रत्न को अर्पित।

आपको बता दे की आने वाले समय में राकेश शर्मा के जीवन पर आधारित फिल्म बन सकती है जिसमें बॉलीवुड एक्टर आमिर खान मुख्य भूमिका में नजर आ सकते है.

Comments