आखिर क्यों है भारतीय सेना में सलामी करने का अलग अलग तरीका।

साभार - डीडी न्यूज़ 
भारत कोई भी परेशानी क्यों न हो पर हमारे देश की तीनों सेना- जल सेना, थल सेना, वायु सेना हमेशा ही रक्षा को तत्पर रहती है. शायद यही वजह है कि देश आज तक सलामत है. भारतीय सेना से जुड़े कुछ ऐसे भी चीज़ें हैं जो कि आम आदमी को उनकी ओर आकर्षित करती हैं, उनमें से एक है उनकी सलामी का तरीका. आज कुछ ऐसी ही झलक हमे प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री के सलामी के तरीके में भी नज़र आई. आइये आज हम आपको बताते हैं कि उनकी सलामी का अलग और नायाब तरीका.

भारतीय थल सेना के सलामी का तरीका
भारतीय सेना का सलामी देने का तरीका पुरे दुनिया में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है. क्योंकि भारतीय सेना सलामी के वक्त यह दर्शाती है कि उनके हाथ में कोई ही हथियार नहीं है जिससे सलामी लेने वाले को संकोच न हो और वो आराम से सलामी ले सके.

भारतीय जल सेना के सलामी का तरीका
भारतीय जल सेना के सलामी के पीछे तर्क यह दिया जाता है कि पहले के समय में जब नाविक नाव पर काम करता था तब उसके हाथों में ग्रीस ओर तेल लग जाने की वजह से उसका हाथ ख़राब हो जाता था जिसे छिपाने के लिए उन्होंने अपने हथेलियों को ढ़ककर सलामी देना शुरू किया, और यहीं से उनका यह तरीका प्रसिद्ध हुआ.

वायुसेना के सलामी का तरीका
 भारतीय वायुसेना के जवान 45 डिग्री पर सलाम करते हैं. पहले वो लोग भी भारतीय सेना की तरह ही सलामी देती थी पर बाद में उन लोगों ने इसे बदल कर 45 डिग्री पर कर लिया. 45 डिग्री पर सलामी जहाज के उड़ान को दर्शाता है. 


Comments