वो औरत जिसकी आवाज़ 20 बरस से भारत सुनता रहा है।

By - सीमांत कश्यप
seemanthindidakiya@gmail.com 



ट्रेन का सफर भला किसे पसंद नहीं,और जिन्हे नहीं पसंद वो स्टेशन तो जाते होंगे ना नहीं जाते तो धिक्कार है,मैंने सुना है की जिंदगी में कुछ ऐसा करना है की आपके मरणोपरांत भी दुनिया याद करे तो कुछ ऐसा लिखिए की दुनिया उसे पढ़ सके या कुछ ऐसा करिये की दुनिया आप पर लिख सके,खैर वो सब छोड़िये अब सुनिए जब भी आप रेल यात्रा करते हो तो आपको रेलवे प्लेटफार्म पर टिन-टिन-टिन “यात्रीगण कृप्या ध्यान दें” यह आवाज आपको अक्सर सुनने को मिल जाती होगी.आप इस अनाउंसमेंट को बड़े गौर से सुनते होंगे. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि यह जो अनाउंसमेंट हो रहा है वह आवाज है किसकी ? कौन है यह महिला जो प्रतिदिन आपकी आवाज में लाखों-करोड़ों रेल यात्रियों को ट्रेन के समय की जानकारी देती है ?

                     फोटो फाइल - सरला चौधरी 

आपको बता दे कि यह महिला है सरला चौधरी. सरला चौधरी को 1982 में अपनी आवाज के कारण सेंट्रल रेलवे में अनाउंसर के पद के लिए दैनिक मज़दूरी पर रखा था. उनकी आवाज़ और मेहनत के कारण उन्हें 1986 में सेंट्रल रेलवे में अनाउंसर के पद पर स्थायी रुप से रख लिया गया था. सरला चौधरी ने इंटरव्यू में बताया कि पहले उन्हें हर स्टेशन पर जाकर खुद अनाउंसमेंट करना पड़ता था, क्योंकि उस समय कंप्यूटर नहीं होते थे.सरला ने कहा कि पहले के समय में उन्हें अलग स्थितियों के लिए अलग-अलग तरीकों से मराठी में भी अनाउंसमेंट को रिकार्ड करना पड़ता था, जिसे पूरा करने में 3 से 4 दिन लग जाते थे।

हिंदी के अलावा सरला को मराठी में भी अनाउंसमेंट को रिकार्ड करना पड़ता था. हालाँकि बाद में रेलवे के सारे अनाउंसमेंट ट्रेन मैनेजमेंट सिस्टम (टी.एम.सी.) संभालने लगा, जिसके बाद उनकी आवाज को स्टैंड बाय मोड पर कंट्रोल रूम में सेव कर लिया. सरला के अनुसार कुछ निजी कारणों से उन्होंने 12 साल पहले यह काम छोड़ दिया है. अब सरला OHE विभाग में कार्यालय अधीक्षक के रुप में काम कर रही हैं. हालाँकि सरला जब भी कभी रेल यात्रा करती है तो आपकी आवाज सुनकर काफी खुश होती है.


Comments