नीरव मोदी के गरमा गरम तेल में ये आदमी 5000 करोड़ का पकौड़ा तल भागा।

By -  हिंदी डाकिया


Credit - Daily hunt
पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) फ्रॉड के बाद देश में एक और सरकारी बैंकों से अरबों के घोटाले का मामला सामने आया है. रोटोमैक पेन बनाने वाली कंपनी पर अलग-अलग सरकारी बैंकों से 500 करोड़ रुपए से अधिक का लोन लेकर भागने का आरोप है.
बताया जा रहा है कि कानपुर स्थित इस कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी ने 5 सरकारी बैंकों से 500 करोड़ का ज्यादा का लोन लिया था. इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, इंडियन ओवरसीज बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने नियम-कानून को ताक पर रखकर विक्रम कोठारी को इतना बड़ा लोन दिया.
विक्रम कोठारी ने सबसे अधिक यूनियन बैंक ऑफ इंडिया से 485 करोड़ का लोन लिया है. उसने इलाहाबाद बैंक से भी 352 करोड़ की रकम का कर्ज लिया था. लेकिन एक साल हो जाने के बावजद उसने बैंकों को न तो लिए गए लोन पर ब्याज चुकाया है और न लोन वापस लौटाया है.
कानपुर के माल रोड के सिटी सेंटर में रोटोमैक कंपनी के ऑफिस पर पिछले कई दिनों ने ताला बंद है. विक्रम कोठारी का भी कोई अता-पता नहीं है. वो लापता बताया जा रहा है.
इलाहाबाद बैंक के मैनेजर राजेश गुप्ता ने फरार विक्रम कोठारी की संपत्तियों को बेचकर पैसे वापस रिकवर होने की उम्मीद जताई है.



Credit - firstpost.com



Comments