Posts

चौथी गली - गोपाल।

मेरे बिहार तक भी यह आग पहुचं गई।

"मरने से पहले कोई नहीं मरता, लोग जीते जी मर जाते हैं"।

कर्नाटक : अमित शाह की कहानी रट्टू तोते की तरह हैं।

तुम्हारे सपनों से रोज़ खिलवाड़ होने की ख़बरें कोने में कतरनों की शक्ल में छप रही हैं।

गौरैया अब मेरी थाली में मेरे साथ नहीं खाती।

ये जकरबर्ग से न हो पाएगा।

लोहिया के न रहने पर।

संसार की सबसे सुंदर कविताएं लिखी नहीं पढ़ी जाती हैं।

उस्ताद बिस्मिल्लाह खां जिन्होंने अकेले शहनाई को प्रसिद्धि दिलाई।

शुक्र है दुआ तो मांग सकती हूं। इन सब चीज़ों से रुक्सत तो हो सकूँगी।