"साला ये दुनिया के सारे कोट्स मर्दों के ख़िलाफ़ हैं"।

By - प्रवीण झा 

साभार - गूगल

बहुत से लोगों को मुझसे बड़ी तक़लीफ़ है सच कहूँ तो मुझे भी ख़ुद से बड़ी तक़लीफ़ है जो शायद अब मौत के दिन ही ख़त्म हो पाएगी लेकिन मेरी जान मरोगी तो तुम भी और उस दिन तुम्हारी गिरेबाँ पकड़ कर पूछुंगा तुमसे की इतना झूठ कैसे बोल सकती हो। जब हाथ थामना ही नहीं था तो पकड़ा क्यूँ। 

बॉब मार्ले ने कभी कहा था कि एक औरत के दिल में इश्क़ को जगाकर धोखा करना दुनिया का सबसे ग़लत काम है, एक तो साला ये दुनिया के सारे कोट्स मर्दों के ख़िलाफ़ क्यूँ बने हैं । जब लोग कहते हैं प्यार करो तो निभाओ चाहे मरकर या ज़िंदा रहकर लेकिन जब निभाने की बारी आती है तो सारा प्यार हवा हो जाता है।

तुम, तुम्हारा परिवार, तुम्हारी ख़्वाहिशे, तुम्हारी आज़ादी, तुम्हारे दोस्त,तुम्हारी ज़िंदगी सब कुछ तुम्हारा लेकिन हमारा क्या। हमारे हिस्से बस आती हैं ज़िम्मेदारी जो हमें चाहे मरकर या जीते जी निभानी ही हैं। जब पहली बार कोई मिलता है और तुम्हें लगता है कि वो तुम्हारे लायक नहीं हैं तो उसे तभी मना कर दो और कह दो कि वो अपनी औक़ात में रहे लेकिन जब इश्क़ कर लिया और निभाने की बारी आई तो हाथ मे वाइन ग्लास वाला फेमिनिस्म को शायद मैं हर बार ठुकरा दूँ।  

अगर औरत की आज़ादी है तो मर्दों को भी आज़ादी होनी चाहिए। हर जगह दबकर रहो, सबकी सुनो, सारी ज़िम्मेदारी पूरी करो, बीवी को संभालो बच्चे पैदा करो और एक दिन साला कुत्ते की मौत मर जाओ । पहले ख़ुद से लड़ाई लड़ो फिर अपने सपनों से लड़ो, फिर लड़ो ख़ुद की ज़िंदगी से और एक दिन मर जाओ ये कहकर की मैं हार गया।

झूट बोलने वालों ने दुनिया पर कब्ज़ा किया हुआ है एयर उनका ही रहेगा। जिन लोगों का ख़ुद भविष्य ख़तरे में है वो दूसरों की ज़िंदगी का फ़ैसला कर रहे हैं। बिना पढ़े लिखे दूसरों के रिश्तों में ज़हर घोल रहे हैं। ख़ुद का ठिकाना नहीं है लेकिन सबको "आज़ादी" दिलवाएंगे। 

किसी के रिश्ते में ज़हर घोल दें अगर आज़ादी है तो मैं पेशाब करता हूँ ऐसे लोगों पर। जिस रिश्ते में रहकर आप भविष्य के ख़्वाब बुनते हैं उसी रिश्ते को आप एक दिन कह देते हैं, "जाओ मेरा हो गया, अब मुझसे संभाला नहीं जा रहा"। 
सुनो इस बात का फ़ैसला होगा क़यामत के रोज़ जिस दिन तुम्हें देना होगा जवाब तुम्हारी हर एक ख़ता का। बाकी उन सभी लोगों के लिए दिल से बद्दुआएं निकलती हैं, आपकी ज़िंदगी का फ़ैसला आपके कर्म करेंगे।

और सच बताऊँ तुम्हारी हैसियत नहीं है कि तुम मुझसे इश्क़ निभा पाओ।


Comments