अयोध्या में बुद्ध का मंदिर था - रामदास अठावले।




Photo - national herald


देश के केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है उन्होंने कहा " अयोध्या में न कभी राम मंदिर था और न कभी मस्जिद था। वहां पर बौद्ध मंदिर था। अगर उस जगह की खुदाई कराई जायेगी तो बौद्ध मंदिर के अवशेष मिल जाएंगे।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि एससी-एसटी एक्ट को लेकर सवर्णों को गलतफहमी हुई है। आज भी वही एक्ट है जो पहले से लागू था।  मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, राजस्थान के जयपुर में शनिवार (15 सितंबर) को एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि, “हिंदुओं ने बुद्ध मंदिर को तोड़ दिया और राम मंदिर बनाया। मुसलमानों ने राम मंदिर तोड़ दिया और वहां मस्जिद बना दी। अब मस्जिद को तोड़ दिया गया है।

अपना सुझाव देते हुए अठावले ने कहा कि अयोध्या की 66 एकड़ जमीन में से 40 - 45 एकड़ जमीन हिंदुओ मंदिर बनाने के लिए और 20 -25 एकड़ जमीन मुसलमानों को मस्जिद निर्माण के लिए दे दिया जाए।

इसके आगे उन्होंने कहा, " इलाहाबद हाई कोर्ट का जजमेंट के अनुसार अयोध्या की जमीन कई पक्षों में बाँट दी जाए। पर मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में है। अभी इस पर किसी तरह का फैसला नहीं आया है।

"वह जगह ऑरिजनली बौद्ध मंदिर की है। वहां जमीन के नीचे खुदाई करने पर बुद्ध की मूर्तियां और बुद्ध मंदिर के अवशेष मिलेंगे। लेकिन हम इन दोनों के झगड़े में नहीं आना चाहते हैं। कोर्ट यह फैसला दे सकता है कि आपलोग बैठकर आम सहमति से विचार करो।” - अठावले 






न्यूज़ सोर्स - जनसत्ता ऑनलाइन








Comments