ये पापा देश की बेटियों के लिए ट्रेन के टॉयलेट में लिखी गंदगी को मिटाता है



www.hindidakiya.com

यह पोस्ट ट्विंकल तोमर सिंह की फेसबुक वॉल से ली गयी है। ट्विंकल सिंह अंग्रेजी विषय की टीचर होने के साथ - साथ एक ब्लॉगर भी है।  

पापा, जो ट्रेन के टॉयलेट की दीवारों पर फ़ोन नंबर के साथ लिखा है उसका क्या मतलब है ?

उत्तम सिन्हा अपनी आठ वर्षीय बेटी को ट्रेन के सफ़र के दौरान टॉयलेट लेकर गए थे। पर जब बेटी बाहर आयी तो उसके इस प्रश्न ने उन को झकझोर के रख दिया। उनसे इस बात का कोई उत्तर देते नही बना। बस उन्होंने इतना ही कहा कि बेटा, ये  गाली जैसे कुछ गंदे शब्द हैं जिन्हें गंदे लोग लिख देते है। इसके बाद वो अंदर गये और उन्होंने शौचालय के अंदर लिखे अश्लील वाक्यों को मिटा दिया। 

ये घटना करीब एक साल पहले की है, जब धनबाद के गांधी नगर के उत्तम सिन्हा अपनी पत्नी अपर्णा और बेटी वर्षा के साथ कोलफील्ड एक्सप्रेस से हावड़ा से धनबाद आ रहे थे। बेटी के इस प्रश्न ने उन्हें इतना उद्वेलित कर दिया कि उन्होंने शौचालयों में लिखी अश्लील इबारतों को मिटाने का बीड़ा उठा लिया है। 

अब तक वो 250 से भी अधिक ट्रेनों में शौचालयों में लिखे अपशब्द मिटा चुके हैं। अश्लील कमेंट मिटाने के बाद उत्तम ट्रेन की दीवार पर एक पोस्टरनुमा कागज़ चिपकाते हैं, जिस पर लिखा होता है -" स्टॉप राइटिंग डर्टी वर्ड्स, इस शौचालय का प्रयोग आपकी मां और बहन भी कर सकती हैं। " झारखंड के धनबाद स्टेशन गुजरने वाली हर एक ट्रेन में आपको ऐसा प्रयास दिखाई देगा। 

ट्रेन के शौचालय से शुरू मुहिम को उत्तम ने विस्तार दिया है। अब वे पार्क, सरकारी कार्यालय, बस स्टैंड, होटल आदि के शौचालयों में भी गंदे कमेंट्स मिटा रहें हैं। 

इस समस्या का सामना लगभग हर फीमेल को करना पड़ता है। ऑफिस, स्कूल, कॉलेज, पर्यटन स्थल,बस स्टैंड कोई जगह ऐसी नही बची है जहां फीमेल्स को एब्यूज करती हुयी बातें न लिखी मिले। और जब लोग ज़्यादा फ्रस्ट्रेटेड हो जाते हैं, तो उसका फ़ोन नंबर भी लिख देते हैं। ये वही भारत माता के सपूत हैं जहां स्त्री को देवी माना जाता हैं।

जब तक एक आदमी अपनी लड़कपन वाली उम्र में रहता है तब तक उसे लगता है फिकरेबाज़ी, छेड़खानी, किसी लड़की को बदनाम करना ये सब उसकी मर्दानगी को दर्शाने वाली चीजें है। वो ये सोचता ही नही उसकी माँ ,बहन ,पत्नी या बेटी को भी ये सब सहना पड़ सकता है। उन्हें भी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ सकता है। 

ऐसे में किसी ने इस गन्दगी को साफ़ करने का बीड़ा उठाया है तो उसके प्रयासों की सराहना करने के लिये ये पोस्ट तो बनती है!












Comments