देवेन भारती के दबाव में किरण चव्हाण ने छुड़वाया बड़ा अपराधी



देवेन भारती के दबाव में किरण चव्हाण ने छुड़वाया बड़ा अपराधी 

कभी स्वर्गीय गृहमंत्री आर. आर. पाटिल के खास और अब मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस के खासमखास का तमगा लेकर पुलिस विभाग में अपनी धौंस जमाकर रखने वाले संयुक्त आयुक्त (कानून व व्यवस्था) देवेन भारती की करतूतों (कहानियों) की मुंबई पुलिस में भरमार है। सहायक आयुक्त राजेंद्र त्रिवेदी ने पिटीशन में इस बात के सबूत दिए हैं कि देवेन भारती ने एक बड़े अपराधी जाहिद अली उर्फ जावेद शब्बीर अहमद उर्फ जावेद को छोड़ने का उपायुक्त किरण चव्हाण के मार्फत आदेश दिया।

तीन नवम्बर 2015 को त्रिवेदी ने तत्कालीन पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर शिकायत की थी कि किरण चव्हाण ने हत्या के आरोप में हिरासत में लिए गए जाहिद अली उर्फ जावेद शब्बीर अहमद उर्फ जावेद को छोड़ देने का इसलिए राजेंद्र त्रिवेदी पर दबाव डाला क्योंकि देवेन भारती का उन पर दबाव था। 

राजेंद्र त्रिवेदी तब शिवड़ी पुलिस थाने के वरिष्ठ निरीक्षक थे। किरण चव्हाण बार-बार त्रिवेदी को जलील करते थे कि कैसे भी करके हत्या का वह मामला (सीआर -81/ 2013) सुलझना चाहिए। आश्चर्य है कि यह बात पुलिस थाने के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को मालूम थी कि हत्या जावेद ने की है। बावजूद इसके जावेद बेफिक्र होकर शिवड़ी पुलिस थाने की विजिट करता रहता था। एक बार तो वह किरण चव्हाण से भी मिलकर गया था। 10 अगस्त 2015 को चव्हाण ने त्रिवेदी को बहुत खरी-खोटी सुना दी। इस पर त्रिवेदी ने सभी पुलिसवालों को जावेद को गिरफ्तार करने के काम पर लगा दिया। चूंकि जावेद पुलिस थाने से बहुत फैमिलियर था इसलिए उसे पकड़ने में ज्यादा वक्त नहीं लगा। उसी दिन जावेद को त्रिवेदी की टीम ने हिरासत में ले लिया। अब क्या ? यह बात जब किरण चव्हाण को पता चली तो वे खफा हो गए। उन्होंने त्रिवेदी को आदेश दिया कि जावेद को तुरंत छोड़ दो। त्रिवेदी ने यह आदेश लिखित में मांगा। इस पर चव्हाण ने बताया कि उन पर देवेन भारती का दबाव है कि जावेद को छोड़ दिया जाये। त्रिवेदी नहीं माने। 

उस दिन वडाला पुलिस थाने की हद में कोई कार्यक्रम था। उसे छोड़कर चव्हाण आनन-फानन में शिवड़ी पुलिस थाने पहुंचे। साथ में तब के सहायक आयुक्त यशवंत व्हटकर को भी ले आये। सबके सामने चव्हाण ने बताया कि देवेन भारती का उन पर प्रेशर है कि जावेद को गिरफ्तार न किया जाये। छोड़ दिया जाये। और चव्हाण के दबाव पर शिवड़ी पुलिस ने जावेद को छोड़ दिया। 

आश्चर्य! कुछ दिन बाद किरण चव्हाण ने राजेंद्र त्रिवेदी को इस बात का मेमो दे दिया कि उन्होंने एक व्यक्ति (जावेद) को पुलिस थाने बुलाकर क्यों परेशान किया, क्यों छोड़ दिया। इस पर भी चव्हाण ने बताया कि मेमो देने के लिए देवेन भारती का दबाव है। त्रिवेदी ने मेमो को तवज्जो नहीं दी तो दूसरा मेमो देकर उन्हें परेशान किया गया।  

देवेन भारती जावेद पर इतने क्यों फिदा थे, नहीं मालूम।   
जावेद के खिलाफ चोरी, डकैती, मारामारी, हत्या, हत्या के प्रयास, एनडीपीएस एक्ट सहित शिवड़ी, भायखला, यलोगेट और नारकोटिक्स विभाग में 9 मामले दर्ज हैं। शिवड़ी पुलिस उसे दो बार गिरफ्तार कर चुकी है। तेल माफिया चाँद मदार का वह दाहिना हाथ माना जाता था। चाँद मदार की मोहम्मद अली ने हत्या करवा दी थी। 

जिस हत्या के मामले में त्रिवेदी ने उसे हिरासत में लिया था वह उसने सुपारी लेकर करवाई थी और लाश डम्पर से ले जाकर श्मशान भूमि में दफन कर दी थी। बाद में शव का एक हाथ कब्र से बाहर आ गया था और हड़कंप मच गया था।






Comments