PUBG गेम की वजह से गयी इस माँ की जान, बेटा खुद को कोसता रहेगा अब

By - डाकिया सूरज

www.hindidakiya.com

जिंदगी में कभी न कभी इंसान से कोई ऐसी गलती हो जाती है जिसका पछतावा उसे मरते दम तक रहता है। PUBG गेम का नाम तो सुना ही होगा आप लोगों ने और कितने खेलते भी होंगे। ये खबर खास कर इस गेम को खेलने वालों के लिए है क्योंकि आर्टिकल का टाइटल भी यही कहता है कि ये खबर इस गेम को अपना सब कुछ दे चुके इंसान के लिए है।

खबर इंदौर है से है जहां  एक महिला ने डिप्रेशन की वजह से सुसाइड कर लिया। अब आप सोच रहे होंगे कि आत्महत्या का PUBG गेम से क्या लेना देना। लेना देना है...

42 साल की रंजना जिंदगी से परेशान थीं। रंजना पिछले कई दिनों से डिप्रेशन में थीं। पति से अनबन हो रही थी। सोचा मर जाती हूं। 2 मार्च की शाम को अपने पति दीपक श्रीवास्तव को फोन किया। वो शहर में असिस्टेंट कमिश्नर, जीएसटी हैं। कहा कि मैं मरने जा रही हूं। सुनकर दीपक नाराज हुए। कहा कैसी बात कर रही हो, रुको मैं घर आ रहा हूं।

इसके बाद दीपक ने अपने 12 साल के बेटे शिवम को करीब दो बार फोन किया लेकिन दीपक ने दोनों ही बार फोन काट दिया।

www.hindidakiya.com
मृतक - रंजना
शिवम  में हॉल में बैठे PUBG खेल रहा था। उस दौरान उसे दो बार दीपक का फोन आया और उसके गेम में कोई अवरोध पैदा न हो इसलिए उसने फोन काट दिया।

कुछ वक्त बाद दीपक घर आये और सीधे रंजना के कमरे में गए जहाँ वो पंखे से लटकी हुई थी। वो दम तोड़ चुकी थी। उसका फोन बंद था। टेबल पर सुसाइड नोट लिखा हुआ था, जिसमें लिखा था " मैं अपनी मर्जी से आत्महत्या कर रह हूँ। इसके लिए किसी को परेशान नहीं किया जाए। अब मैं भगवान के पास रहना चाहती हूँ।"

इसमें दोष किसी का नहीं है। इसमें कोई नहीं कुछ कर सकता है। सबसे पहले घर में ऐसा नियम बनाये की अगर कोई व्यक्ति दो नार से ज्यादा कॉल करता है तो कॉल को तुरंत अटेंड करना चाहिए। क्योंकि वो कॉल जरूर भी हो सकती है। इसके अलावा अगर घर में कोई व्यक्ति तनाव का शिकार है तो उससे बात करें। उसे अकेला न छोड़े, उसके साथ रहे।









Comments