फ्रांस की राजधानी पेरिस में 800 सालों से खड़ी इमारत धूं धूं करके जल गईं

By - डाकिया चमन मिश्रा

www.hindidakiya.com

नॉट्र-डाम कैथेड्रल चर्च जल गया. फ्रांस की राजधानी पेरिस में 800 सालों से खड़ी इमारत धूं धूं करके जल गईं. 

नॉट्र डाम नहीं जला, फ्रांस की आत्मा जल गई. सीन नदी अपनी मजबूरी पर रोई होगी कि क्यों नहीं उछाल देती मैं अपने आप को नॉट्र की गुंबदों पर. 

रो रहा होगा हर एक फ्रांसीसी कि हम ही क्यों नहीं जल गए. क्यों नहीं जल गया पेरिस में ही खड़ा आइफ़ल टावर. 

इमैनुएल मैक्रां ने कहा, कि देश में आग लगी है  और हमारा हिस्सा जल रहा है. 

ट्रंप ने कहा बहुत भयावह है. फ्रांस के लोगों पर ईश्वर कृपा करे. 

www.hindidakiya.com

फ्रांस की सड़कें थम गई थीं-  हर कोई गमगीन था. जहां था वहीं खड़े होकर खुद की पहचान को जलते देख रहा था. 

आंखें नम थीं. आंसू बह रहे थे. बस एक बार देख लेने दो- जलते हुए ही सही. 

सड़कें लोगों से पटी थीं और सबके चेहरे पर मायूसी. मानो और एक गुंबद गिरा तो गिर जाएंगे ये भी. 

गुंबद और छत गिर गई. गिर गया फ्रांसिसियों का स्वाभिमान. बच गई मुख्य इमारत और दो मीनारें- बच गई फ्रांस की रूह. 

उत्तराखंड में जब पानी मृत्यु का तरल दूत बन गया था- तब कांप गई हिंदुस्तान की पिंडुरियां. कि कहीं केदारनाथ तो नहीं. 

बस इतना कि हम बच गए थे- फ्रांस नहीं बचा. 

विक्टर ह्यूगो का उपन्यास 'हंचबैक ऑफ़ नॉट्र डाम' इसी नॉट्र डाम पर है. जो फ्रांसीसी साहित्य की एक मास्टरपीस कृति है. 

फ्रांस गोथिक शिल्प का नॉट्र का टूटना फ्रांस का टूटना है. ढह जाना है स्वाभिमान का. 

मैक्रां ने कहा फिर बनाएंगे. क्या सच में मिस्टर प्रेसिडेंट- आप नॉट्र बना पाएंगे...?






Comments