दलित बच्चे को सजा के नाम पर गर्म टाइल्स पर बैठा दिया गया

By - हिंदी डाकिया

www.hindidakiya.com

महाराष्ट्र (Maharashtra) के वर्धा में आठ साल के बच्चे को अजीब सजा दी गई। उसे नंगा करके घंटे गर्म टाइल्स पर बैठा दिया गया, जिससे उसके हिप्स गंभीर रूप से जल गए। बच्चे को अरवी जनरल हॉस्पिटल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।


पुलिस ने बताया कि अरवी के रानी लक्ष्मी बाई वॉर्ड का रहने वाला आठ वर्षीय आर्यन खडसे जोगना माता मंदिर परिसर में रोज खेलता था। वह शनिवार को भी मंदिर में खेल रहा था। कहा जा रहा है कि उमेश उर्फ अमोल डोरे (32) को शक था कि आर्यन मंदिर में चढ़ाए गए रुपये चोरी कर लेता है। उन्होंने आर्यन को दंड देने का फैसला लिया।


उमेश ने आर्यन की पेंट उतरवाकर उसे तेज धूप में तप रही टाइल्स पर बैठा दिया। उसके हाथ बांध दिए। जब वह जलने के बाद दर्द से तड़पने लगा तो उमेश ने उसे वहां से भगा दिया। आर्यन अपने घर पहुंचा तो रात में दर्द सहन न हो पाने पर उसने अपने पिता गजानन को घटना की जानकारी दी। हालांकि बच्चा दलित है और वह मंदिर में गया था इस कारण भी उसे सजा देने की बात सामने आ रही है।

गजानन में थाने में उमेश के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। पुलिस ने बताया कि उमेश के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। पीड़ित मातंग समुदाय से आते हैं जिन्हें दलित माना जाता है। पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि कहीं बच्चे को दलित होने के कारण मंदिर जाने पर सजा तो नहीं दी गई।

पीएसआई परमेश्वर अगासे ने कहा कि सामान्यता इलाके का हर बच्चा रोज मंदिर परिसर में जाकर खेलता है। कभी किसी ने कोई आपत्ति नहीं की। सिर्फ इस बच्चे को प्रताड़ित किया गया इसलिए जांच में बच्चे के दलित होने का ऐंगल भी शामिल किया गया है।






सोर्स - नवभारत टाइम्स






Comments