नंदादेवी रेस्क्यू अभियान: मौसम खराब होने से लौटा सेना का हेलीकॉप्टर

By - हिंदी डाकिया 


लापता पर्वतारोहियों तक नहीं पहुंच सकी रेस्कयू टीम 

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में नंदा देवी ईस्ट में पर्वतारोहण के दौरान लापता आठ विदेशी पर्वतारोहियों तक रेस्कयू टीम नहीं पहुंच सकी। बुधवार को विदेशी पर्वतारोहियों के शव निकालने के लिए रेस्कयू अभियान शुरू किया गया लेकिन खराब मौसम के चलते बचाव दल में शामिल सेना के हेलीकॉप्टर को लौटन पड़ा।

नंदा देवी ईस्ट में पर्वतारोहण के दौरान बर्फ में दबे 

पर्वतारोहियों के शवों को निकालने के लिए सेना, आईटीबीपी और एसडीआरएफ संयुक्त अभियान चला रहा है। मौमस खराब होने की वजह से  समस्या आ रही है। जिला आपदा प्रबंधंन केन्द्र से प्राप्त जानकारी के अनुसार एयरफोर्स का एडवांस लाइट हेलीकॉप्टर टीम को लेकर रवाना हुआ था लेकिन हेलीकॉप्टर आगे नहीं जा पाया। वहां से उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ा है। जिला प्रशासन अब नई रणनीति बनाने में जुटा है। रेस्कयू टीम द्वारा बर्फ में दबे शवों को निकालकर पिथौरागढ़ के नैनी-सैनी हवाई पट्टी पर लाकर पंचनामा भरा जाएगा। वहां से शवों को मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी को भेजा जाएगा।

13 मई को मुनस्यारी से नंदादेवी ईस्ट में पर्वतारोहण के लिए गए दल में से आठ पर्वतारोही ब्रिटेन निवासी लीडर मार्टिन मोरिन, ब्रिटेन के ही पर्वतारोही जोन चार्लिस मैकलर्न, रिचर्ड प्याने, रूपर्ट वेवैल, अमेरिका के एंथोनी सुडेकम, रोनाल्ड बीमेल, आस्ट्रेलिया की महिला पर्वतारोही रूथ मैकन्स और इंडियन माउंटनेयरिंग फेडरेशन के जनसंपर्क अधिकारी चेतन पांडे लापता हो गए थे।





Comments