सोना तस्कर दीपक सुहानी गैंग के तीन सदस्यों ने उल्हासनगर का नाम यूं किया रोशन, सोना और डॉलर के साथ बंगलौर में गिरफ्तार


सोना तस्कर दीपक सुहानी गैंग के तीन सदस्यों ने उल्हासनगर का नाम यूं किया रोशन, सोना और डॉलर के साथ बंगलौर में गिरफ्तार 

उल्हासनगर। राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने बंगलौर के केम्पगौड़ा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर तीन युवकों को 2.5 किलो सोने और 2 लाख अमेरिकन डॉलर के साथ गिरफ्तार किया है। तीनों आरोपी उल्हासनगर/कल्याण के बदनाम सोना और विदेशी मुद्रा तस्कर दीपक पुरुषोत्तम सुहानी गैंग के सक्रिय सदस्य हैं। 

इसके पहले जब भी न्यूज़ पोर्टल एबीआई (अकेला ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन) ने दीपक सुहानी गैंग की करतूतों के बारे में न्यूज़ प्रकाशित की तो दीपक सुहानी ने शहर में यह माहौल बनाने की कोशिश की एबीआई उल्हासनगर शहर को बदनाम कर रहा है। अब दीपक सुहानी से कोई यह पूछे कि उसके ये बन्दे -जो पूरे देश के हवाई अड्डों पर पकड़े जा रहे हैं तो -कौन सा हरिद्वार से गंगाजल लाते पकड़े जा रहे हैं? पुलिस के रिकार्ड में जब उल्हासनगर का नाम दर्ज हो रहा है तो शहर का नाम किस मकसद से रोशन हो रहा है ? कौन सा मेडल लेकर वे आ रहे थे कि पुलिस ने उन्हें बेवजह पकड़ लिया?


गत 12 अप्रैल 2019 को बंगलौर हवाई अड्डे पर डीआरआई ने कमल मोटवानी, पंकज धामिजानी और एक युवक को 2.5 किलो सोना (88 लाख रुपये) और 2 लाख अमेरिकन डॉलर (डेढ़ करोड़ रुपये) के साथ गिरफ्तार किया है। तीनों अभी भी हिरासत में हैं। कमल मोटवानी कल्याण तो पंकज धामिजानी उल्हासनगर का रहनेवाला है। ये लोग इंडिगो एयरलाइन्स से सिंगापुर वाया अहमदाबाद से बंगलौर आये थे। सोने को इन्होंने ट्वायलेट के पैनल में छिपाया था। आश्चर्य की बात है कि इनके पास से एक विशेष प्रकार का पेचकश मिला जो एयरोनॉटिकल इंजीनियर्स सिर्फ एयरक्राफ्ट  में प्रयोग करते हैं। हवाई अड्डा प्रशासन इनके पास से पेचकश के मिलने से चिंतित है और डिपार्टमेंट को अलर्ट कर दिया है।

इन गैंग सदस्यों के तस्करी में सक्रिय होने की जानकारी ईमेल के जरिये उल्हासनगर के ही अनिल सतनाथी ने दो दफा एयर इंटेलिजेंस यूनिट (एआईयू), अहमदाबाद को दी थी लेकिन भ्रष्ट अधिकारी सोमनाथ चौधरी ने उसे दबा दिया।

दीपक सुहानी थर्ड फ्लोर, शिव वैली अपार्टमेंट, गोदरेज हिल, कल्याण (पश्चिम) में रहता है। जिन युवाओं को किसी अच्छे बिजनेस में लगना चाहिए था उन्हें बहुत जल्दी करोड़पति बनने का सपना दिखाकर इसने तस्करी (देशद्रोह) के धंधे में लगा दिया है। बताते हैं कि इसके गैंग में 40 युवा (कुछ युवती भी) काम कर रहे हैं। इसके गैंग के 20 सदस्य अब तक मुंबई, पुणे, अहमदाबाद, बंगलौर, हैदराबाद, कोलकाता, नई दिल्ली, चेन्नई, नागपुर, वाराणसी, गया, नेपाल और दुबई एयरपोर्ट पर गिरफ्तार हो चुके हैं। या यूं कहिये उल्हासनगर का नाम स्वर्णाक्षरों में अंकित कर चुके हैं।


जन स्वाभिमान को मालूम पड़ा कि इस सिलसिले में उल्हासनगर के एक तथाकथित पत्रकार से भी पूछताछ हो सकती है। यह पत्रकार दीपक सुहानी गैंग से प्रति माह हफ्ता लेता है और पुलिस जीप में दमन से शराब की तस्करी करता है।



साभार - दैनिक जनस्वाभिमान





Comments