यंग जॉर्नलिस्ट आवर्ड से सम्मानित अभिषेक पाण्डेय



पत्रकारिता में लंबे समय से कार्यरत न्यूज़18 के अभिषेक पाण्डेय को यंग जॉर्नलिस्ट अवार्ड से सम्मानित किया गया।


पत्रकारों के कल्याण हेतु समर्पित संस्था 'पत्रकार विकास संघ' (पी वी एस) अपनी स्थापना के 11 वर्ष पूर्ण करने जा रही है। इस उपलक्ष्य में रविवार 15 दिसंबर की शाम 6 बजे से सुंदर नगर, मालाड पश्चिम  के खेतान आॅडिटोरियम में एक अवाॅर्ड फंक्शन आयोजित किया गया। इस फंक्शन में कई पत्रकारों को उनके काम के लिए सम्मानित किया गया।

सिर्फ़ बूम पकड़कर सवाल पूछना ही पत्रकार की ज़िम्मेदारी नहीं, एक पत्रकार समाज के लिए क्या कर सकता है ये जानना भी उसकी ज़िम्मेदारी है और यही सोच मुझे इस तरह के कार्यों के लिए प्रेरित करती है। - अभिषेक पाण्डेय

पत्रकारिता के क्षेत्र में अभिषेक पाण्डेय अब तक...


उत्तर प्रदेश से मुलत: आने वाले अभिषेक पाण्डेय महाराष्ट्र की पत्रकारिता में करीब 2006 से सक्रिय हैं..

बतौर क्राइम जर्नलिस्ट अभिषेक ने

 2008 मुंबई हमला

पुणे जर्मन बेकरी ब्लास्ट

पुणे जे एम रोड ब्लास्ट

मुंबई ट्रिपल ब्लास्ट

सहित कई बड़े क्राइम अपराधिक घटनाओं की रिपोर्टिंग की है।



पॉलिटिकल जर्नलिस्ट के रूप में अभिषेक ने


2009 महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव

2009 लोकसभा चुनाव

2012 गुजरात विधानसभा चुनाव

2014 लोकसभा चुनाव मोदी के जन्म स्थान वडनगर से

2014 महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव

गोवा विधानसभा चुनाव

कर्नाटक विधानसभा चुनाव

2019 लोकसभा चुनाव

2019 विधानसभा चुनाव

सहित कई बड़ी राजनीतिक घटनाओं की रिपोर्टिंग की है।

अभिषेक को कई सम्मान मिल चुके हैं


2017 में नवभारत y4d पिलर्स ऑफ न्यू इंडिया से सम्मानित किया जा चुका है।

2018 में यंग डायनेमिक जर्नलिस्ट अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है।



समाज सेवक भी है अभिषेक


पत्रकारिता के प्रोफेशन से अलग हटकर अभिषेक लगातार सामाजिक कामों में भी सक्रिय रहते हैं। "समाज विकास मंच" नाम की संस्था के जरिए अभिषेक ने...

महाराष्ट्र सरकार के साथ मिलकर महाराष्ट्र भर में  करीब 5000  वृक्षारोपण करवाए हैं।

महाराष्ट्र के शोलापुर जिले के पंढरपुर में गोपाल गौशाला के साथ मिलकर करीब 100 लावारिस गायों (Cow) की देखरेख करवाते हैं।

उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में पढने वाले बच्चों के लिए एक बड़ी लाइब्रेरी भी चलाते हैं।

उत्तर प्रदेश में भी कई जगहों पर ग्रामीणों के इलाज के लिए मेडिकल कैंप लगवाते हैं।

कई जिलों के सरकारी स्कूलों में हजारों नोटबुक पेंसिल और पाठ्य सामग्री वितरित करते हैं जिससे ग्रामीण इलाके में शिक्षा को और बल मिल सके साथ ही आर्थिक तौर पर कमजोर बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले।

इस तरह अभिषेक पत्रकारिता के बिज़ी शेड्यूल से निकल कर न सिर्फ़ TV पर अपनी बातों से बल्कि जमीनी स्तर पर भी जाकर लोगों की असल मायने में सेवा भी करते हैं।









Comments