कोरोना से लड़ने से में भारत को पाकिस्तान से सिख लेनी चाहिए



शुरुआती दौर में पाकिस्तान ने कोरोना महामारी के सामने दम तोड़ दिया था। आम जनता खुद को असुरक्षित महसूस करने लगी थी, क्योंकि कोरोना का हमला न सिर्फ़ पाकिस्तान की आम जनता पर था बल्कि नेता, अभिनेता और कई बड़े अधिकारियों पर भी था। कोरोना की मार से व्यापार भी ठप हो गया था। जिससे पाकिस्तान की हालत और भी ज़्यादा ख़राब हो गयी थी।


लेकिन जून और जुलाई के बीच हुआ कुछ ऐसा की अचानक पाकिस्तान की हालत सुधरने लगी। एका एक कोरोना के मामले कम होने लगे, रिकवरी रेट भी बढ़ गयी। 



दरअसल, डब्लूएचओ (WHO) के चीफ़ ट्रेडोस एडनहोम ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में पाकिस्तान के काम की तारीफ़ की और कहा कि दुनियाभर के दूसरे देशों को पाकिस्तान से प्रेरणा लेनी चाहिए।


डब्लूएचओ चीफ ने कहा कि पाकिस्तान ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए पिछले कई साल में पोलियो के लिए बनाए गए बुनियादी ढांचे का सहारा लिया है। डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने देश के सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की भी प्रशंसा की। इन कार्यकर्ताओं को पोलियो के लिए घर-घर जाकर बच्चों का टीकाकरण करने का प्रशिक्षण दिया गया है।



पाक में आज कोरोना के 584 नए मामले


पाकिस्तान में कोरोना वायरस संक्रमण के 584 नए मामले सामने के बाद देश में अब तक संक्रमित हुए लोगों की कुल संख्या बढ़कर 3,00,955 हो गई है। पाकिस्तान के राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय ने शनिवार को बताया कि देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण से तीन और लोगों की मौत हो गई। इसके बाद संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 6,373 हो गई।


भारत में कोरोना मरीज़ों की कुल संख्या 46.6 लाख है। जिनमें 36.2 लाख लोग ठीक हो गए और अब तक 77,472 लोगों की मौत हो चुकी है।






Comments